Home / Hindi / हाथरस में गधे की लीद से मसाला बनाने वाली फैक्ट्री सील, संचालक हिंदू युवा वाहिनी नेता गिरफ्तार

हाथरस में गधे की लीद से मसाला बनाने वाली फैक्ट्री सील, संचालक हिंदू युवा वाहिनी नेता गिरफ्तार

ਜਿਹੜੇ ਹਿੰਦੂਤਵੀ ਕਿਸਾਨਾਂ ਨੂੰ ਬਦਨਾਮ ਕਰਦੇ ਕੇ ਸਪਰੇਅ ਅਤੇ ਦਵਾਈਆਂ ਵਰਤੀਆਂ ਕਣਕ ਉਗਾਉਣ ਚ, ਆਪ ਗਧੇ ਦੀ ਲਿੱਦ ਦੇ ਮਸਾਲੇ ਖਵਾਉਂਦੇ ਲੋਕਾਂ ਨੂੰ… ਯੋਗੀ ਅਦਿਤਿਆਨਾਥ ਦਾ ਨਜ਼ਦੀਕੀ ਹੈ ਲੋਕਾਂ ਨੂੰ ਗਧੇ ਦੀ ਲਿੱਦ ਖਵਾਉਣ ਵਾਲਾ

उत्तर प्रदेश के हाथरस में पुलिस ने सोमवार की रात को एक कारखाने में छापा मारा कर नकली मसालों के बड़े रैकेट का भंडाफोड़ कर दिया. कारखाने के लोग स्थानीय ब्रांडों के नाम पर मिलावटी मसाले बनाते थे जिसमें गधे की लीद, गोबर, एसिड और घास (भूसा) का इस्तेमाल किया जाता था. पुलिस ने 300 किलोग्राम से अधिक नकली मसालों को भी जब्त किया है.

यूपी के हाथरस जिले में गधे की लीद और खतरनाक एसिड आदि का इस्तेमाल कर लोकल ब्रांडों के नकली मसाले बनाने वाली फैक्ट्री का पुलिस ने भांडाफोड़ किया हैं। मसाले में चांदी और अन्य बेशकीमती चीजों को मिलाकर तैयार करने का दावा किया जा रहा था। पुलिस के मुताबिक फैक्ट्री संचालक अनूप वार्ष्णेय को फिलहाल शांति भंग के तहत गिरफ्तार किया हैं। वह हिंदू युवा वाहिनी का उप मंडल प्रभारी है।

फैक्ट्री हाथरस कोतवाली के नवीपुर इलाके में संचालित थी। प्रशासन के ज्वाइंट मैजिस्ट्रेट पीपी मीणा के मुताबिक कुछ स्थानीय ब्रांडों के नाम पर पैक किए जा रहे 300 किलोग्राम से अधिक नकली मसाले छापे में बरामद किए हैं।

छापे में नकली मसाले तैयार करने के लिए इस्तेमाल किए जाने वाले कई नुकसान देह तत्व जैसे गधे की लीद, भूसा, अखाद्य हानिकारक रंग के अलावा एसिड से भरे ड्रम मिले हैं। बरामद मिलावटी मसालों में पिसा धनिया पाउडर, लाल मिर्च पाउडर, हल्दी और गरम मसाला बनाया जा रहा था। काफी तादाद में मसाला बनाने के लिए एकत्र किया हुआ सामान भी मिला हैं।


खाद्य विभाग के अफसरों की माने तो मिलावटी मसाले लंबे वक्त तक खाने में इस्तेमाल करने पर स्वास्थ के लिए खतरनाक साबित होते हैं। अब देखना है कि यह मसाले कब से बन रहे थे और इनकी सप्लाई किस स्तर तक हो रही हैं। ताकि अलग अलग टीम बनाकर मिलावटी मसालों या अन्य माल को बरामद कर आमजन को नुकसान से बचाया जा सके।

अधिकारियों के मुताबिक छापे के दौरान मौके पर विभिन्न ब्रांड के करीब 1000 खाली पैकेट और करीब 100 पैकेट भरे हुए मसालों के पाए गए। फैक्ट्री संचालक अनूप वार्ष्णेय बन रहे मसालों के ब्रांडों के लाइसेंस या उससे जुड़े कोई कागजात मौके पर दिखाने में नाकाम रहे हैं। जिसके बाद श्रेत्रीय एसडीएम ने फैक्ट्री को सील कर दिया।

फैक्ट्री संचालक को फिलहाल शांति भंग की धारा 151 के तहत गिरफ्तार कर न्यायिक हिरासत में जेल भेज दिया है। 27 से अधिक नमूनों को जांच के लिए भेजा गया हैं। लैब से रिपोर्ट में मिलावट साबित होने के के बाद खाद्य सुरक्षा अधिनियम के तहत एफआईआर दर्ज की जाएगी।

About admin

Check Also

गौशालाओं में दान देना बंद करें !- मनोज दूहन

गौ के मुद्दे पर शहरी हिन्दू , जमींदार (किसान) जातियों को भावुकता में बनाये रखते …

%d bloggers like this: